Monday, January 4, 2016

Mahabharat war details

!! MAHABHARAT WAR DAY TO DAY DETAIL !!

1. युद्ध का दिन
2. विवरण
3. पाण्डव पक्ष की क्षति
4. कौरव पक्ष की क्षति

पहला दिन

पहले दिन की समाप्ति पर पाण्डव पक्ष को भारी हानि उठानी पड़ी, विराट नरेश के पुत्र उत्तर और श्वेत क्रमशः शल्य और भीष्म के द्वारा मारे गये। भीष्म द्वारा उनके कई सैनिकों का वध कर दिया गया। यह दिन कौरवों के उत्साह को बढ़ाने वाला था। इस दिन पाण्डव किसी भी मुख्य कौरव वीर को नहीं मार पाये। 

विराट पुत्र उत्तर और श्वेत

दूसरा दिन
इस दिन पाण्डव पक्ष की अधिक क्षति नहीं हुई, द्रोणाचार्य ने धृष्टद्युम्न को कई बार हराया और उसके कई धनुष काट दिये, भीष्म द्वारा अर्जुन और श्रीकृष्ण को कई बार घायल किया गया, यह दिन कौरवों के लिये भारी पड़ा, इस दिन भीम का कलिंगों और निषादों से युद्ध हुआ तथा भीम द्वारा सहस्रों कलिंग और निषाद मार गिराये गए, अर्जुन ने भी भीष्म को भीषण संहार मचाने से रोके रखा। [३४]

कलिंगराज भानुमान्,केतुमान,अन्य कलिंग वीर

तीसरा दिन

इस दिन भीम ने घटोत्कच के साथ मिलकर दुर्योधन की सेना को युद्ध से भगा दिया, भीष्म दुर्योधन को आश्वासन देकर भीषण संहार मचा देते हैं, श्रीकृष्ण अर्जुन को भीष्म वध करने को कहते है परन्तु अर्जुन उत्साह से युद्ध नहीं कर पाता जिससे श्रीकृष्ण स्वयं भीष्म को मारने के लिए उद्यत हो जाते है परन्तु अर्जुन उन्हे प्रतिज्ञा रूपी आश्वासन देकर कौरव सेना का भीषण संहार करते है, वह एक दिन में ही समस्त प्राच्य, सौवीर, क्षुद्रक और मालव क्षत्रियगणों को मार गिराते हैं। [३४]

प्राच्य,सौवीर,क्षुद्रक और मालव वीर

चौथा दिन

इस दिन कौरवों ने अर्जुन को अपने बाणों से ढक दिया, परन्तु अर्जुन ने सभी को मार भगाया। भीम ने तो इस दिन कौरव सेना में हाहाकार मचा दी, दुर्योधन ने अपनी गजसेना भीम को मारने के लिये भेजी परन्तु घटोत्कच की सहायता से भीम ने उन सबका नाश कर दिया और १४ कौरवों को भी मार गिराया, परन्तु राजा भगदत्त द्वारा जल्द ही भीम पर नियंत्रण पा लिया गया। बाद में भीष्म को भी अर्जुन और भीम ने भयंकर युद्ध कर कड़ी चुनौती दी। [३४]

धृतराष्ट्र के १४ पुत्र

पाँचवाँ दिन

इस दिन भीष्म ने पाण्डव सेना को अपने बाणों से ढक दिया, उन पर रोक लगाने के लिये क्रमशः अर्जुन और भीम ने उनसे भयंकर युद्ध किया। सात्यकि ने द्रोणाचार्य को भीषण संहार करने से रोके रखा। भीष्म द्वारा सात्यकि को युद्ध क्षेत्र से भगा दिया गया। [३४]

सात्यकि के दस पुत्र

छठा दिन

इस दिन भी दोनो पक्षों में भयंकर युद्ध चला, युद्ध में बार बार अपनी हार से दुर्योधन क्रोधित होता रहा परन्तु भीष्म उसे आश्वासन देते रहे। अंत में भीष्म द्वारा पांचाल सेना का भयंकर संहार किया गया। [३४]

सातवाँ दिन

इस दिन अर्जुन कौरव सेना में भगदड़ मचा देता है, धृष्टद्युम्न दुर्योधन को युद्ध में हरा देता है, अर्जुन पुत्र इरावान विन्द और अनुविन्द को हरा देते है, भगदत्त घटोत्कच को और नकुल सहदेव शल्य को युद्ध क्षेत्र से भगा देते हैं, भीष्म पाण्डव सेना का भयंकर संहार करते हैं। [३४]
विराट पुत्र शंख

आठवाँ दिन

इस दिन भी भीष्म पाण्डव सेना का भयंकर संहार करते है, भीमसेन धृतराष्ट्र के आठ पुत्रों का वध कर देता है, राक्षस अम्बलुष अर्जुन पुत्र इरावान का वध कर देता है। एक बार पुनः घटोत्कच दुर्योधन को युद्ध में अपनी माया द्वारा प्रताड़ित कर युद्ध से उसकी सेना को भगा देता है, तब भीष्म की आज्ञा से भगदत्त घटोत्कच को हरा कर भीम, युधिष्ठिर व अन्य पाण्डव सैनिकों को पीछे ढकेल देता है। दिन के अंत तक भीमसेन धृतराष्ट्र के नौ और पुत्रो का वध कर देता है। [३४]

अर्जुन पुत्र इरावान
धृतराष्ट्र के १७ पुत्र

नौवाँ दिन

इस दिन दुर्योधन भीष्म को या तो कर्ण को युद्ध करने की आज्ञा देने को कहता है या फिर पाण्डवों का वध करने को, तो भीष्म उसे आश्वासन देते हैं कि कल या तो कृष्ण अपनी युद्ध मे शस्त्र न उठाने की प्रतिज्ञा तोड़गे वरना वो किसी एक पाण्डव का वध अवश्य कर देंगे। युद्ध में आखिरकार भीष्म के भीषण संहार को रोकने के लिये कृष्ण को अपनी प्रतिज्ञा तोड़नी पड़ती है परन्तु इस दिन भीष्म पाण्डवों की सेना का अधिकांश भाग समाप्त कर देते हैं। [३४]

दसवाँ दिन

इस दिन पाण्डव श्रीकृष्ण के कहने पर भीष्म से उनकी मुत्यु का उपाय पुछकर अर्जुन शिखण्डी को आगे कर भीष्म के शरीर को बाणों से ढक देते हैं, भीष्म पांचाल तथा मत्स्य सेना का भयंकर संहार कर देते है और अंत में अर्जुन के बाणों से विदीर्ण हो बाणों की उस शय्या पर लेट जाते हैं। 

शतानीक
भीष्म

ग्यारहवाँ दिन

कर्ण के कहने पर द्रोण सेनापति बनाये जाते हैं, कर्ण भी युद्ध में आ जाता है जिससे कौरवों का उत्साह कई गुणा बढ़ जाता है, दुर्योधन और शकुनि द्रोण से कहते है कि वे युधिष्ठिर को बन्दी बना लें तो युद्ध अपनेआप खत्म हो जायेगा, तो जब दिन के अंत में द्रोण युधिष्ठिर को युद्ध में हरा कर उसे बन्दी बनाने के लिये आगे बढ़ते ही हैं कि अर्जुन आकर अपने बाणों की वर्षा से उन्हे रोक देता है, कर्ण भी इस दिन पाण्डव सेना का भारी संहार करता है। 

विराट

बारहवाँ दिन

पिछले दिन अर्जुन के कारण युधिष्ठिर को बन्दी न बना पाने के कारण शकुनि व दुर्योधन अर्जुन को युधिष्ठिर से काफी दूर भेजने के लिए त्रिगर्त देश के राजा को उससे युद्ध कर उसे वहीं युद्ध में व्यस्त बनाये रखने को कहते है, वे ऐसा करते भी है परन्तु एक बार फिर अर्जुन समय पर पहुँच जाता है और द्रोण असफल हो जाते हैं। [३५]
द्रुपद
त्रिगर्त नरेश

तेरहवाँ दिन

इस दिन दुर्योधन राजा भगदत्त को अर्जुन को व्यस्त बनाये रखने को कहते है क्योंकि केवल वही अर्जुन की श्रेणी के योद्धा थे, भगदत्त युद्ध में एक बार फिर से पाण्डव वीरों को भगा कर भीम को एक बार फिर हरा देते है फिर अर्जुन के साथ भयंकर युद्ध करते है, श्रीकृष्ण भगदत्त के वैष्णवास्त्र को अपने ऊपर ले उससे अर्जुन की रक्षा करते है। अन्ततः अर्जुन भगदत्त की आँखो की पट्टी को तोड़ देता है जिससे उसे दिखना बन्द हो जाता है और अर्जुन इस अवस्था में ही छ्ल से उनका वध कर देता है। इसी दिन द्रोण युधिष्ठिर के लिये चक्र व्यूह रचते हैं जिसे केवल अभिमन्यु तोड़ना जानता था परन्तु निकलना नहीं जानता था। अतः युधिष्ठिर भीम आदि को उसके साथ भेजता है परन्तु चक्र व्यूह के द्वार पर वे सब के सब जयद्रथ द्वारा शिव के वरदान के कारण रोक दिये जाते हैं और केवल अभिमन्यु ही प्रवेश कर पाता है। वह छल से अकेला ही सभी कौरव महारथियों द्वारा मार दिया जाता है, अपने पुत्र अभिमन्यु का अन्याय पूर्ण तरीके से वध हुआ देख अर्जुन अगले दिन जयद्रथ वध करने की प्रतिज्ञा लेता है और ऐसा न कर पाने पर अग्नि समाधि लेने को कहता है। [३५]
अभिमन्यु

चौदहवाँ दिन

अर्जुन की अग्नि समाधि वाली बात सुनकर कौरव उत्साहित हो जाते हैं और यह योजना बनाते है कि आज युद्ध में जयद्रथ को बचाने के लिये सब कौरव योद्धा अपने जान की बाजी लगा देंगे, द्रोण जयद्रथ को बचाने का पूर्ण आश्वासन देते हैं और उसे सेना के पिछले भाग मे छिपा देते है, परन्तु अर्जुन सब को रौंदते हुए कृष्ण द्वारा किये गये सूर्यास्त के कारण बाहर आये जयद्रथ को मारकर उसका मस्तक उसके पिता के गोद मे गिरा देते हैं। इस दिन द्रोण द्रुपद और विराट को मार देते हैं। [३५]
द्रुपद,विराट
जयद्रथ,भगदत्त

पन्द्रहवाँ दिन

इस दिन पाण्डव छल से द्रोणाचार्य को अश्वत्थामा की मृत्यु का विश्वास दिला देते हैं जिससे निराश हो द्रोण समाधि ले लेते हैं उनकी इस दशा मे धृष्टद्युम्न उनका सिर काटकर वध कर देता है। [३५]

द्रोण

सोलहवाँ दिन

इस दिन कर्ण कौरव सेना का मुख्य सेनापति बनाया जाता है वह इस दिन पाण्डव सेना का भयंकर संहार करता है, इस दिन वह नकुल सहदेव को युद्ध मे हरा देता है परन्तु कुंती को दिये वचन को स्मरण कर उनके प्राण नहीं लेता। फिर अर्जुन के साथ भी भयंकर संग्राम करता है, भीम दुःशासन का वध कर उसकी छाती का रक्त पीता है और अंत मे सूर्यास्त हो जाता है। [३६]

दुःशासन 

सत्रहवाँ दिन

इस दिन कर्ण भीम और युधिष्ठिर को हरा कर कुंती को दिये वचन को स्मरणकर उनके प्राण नहीं लेता। अन्ततः अर्जुन कर्ण के रथ के पहिये के भूमि में धँस जाने पर श्रीकृष्ण के कहने पर रथ के पहिये को निकाल रहे कर्ण का उसी अवस्था में वध कर देता है, इसके बाद कौरव अपना उत्साह हार बैठते है। फिर शल्य प्रधान सेनापति बनाये गये परन्तु उनको भी युधिष्ठिर दिन के अंत में मार देते हैं। [३७]

कर्ण,शल्य,दुर्योधन के २२ भाई

अठारहवाँ दिन

इस दिन भीम दुर्योधन के बचे हुए भाइयों को मार देता है सहदेव शकुनि को मार देता है और अपनी पराजय हुई जान दुर्योधन एक तालाब मे छिप जाता है परन्तु पाण्डवों द्वारा ललकारे जाने पर वह भीम से गदा युद्ध करता है और छल से जंघा पर प्रहार किये जाने से उसकी मृत्यु हो जाती है इस तरह पाण्डव विजयी होते हैं। [३८]
द्रोपदी के पाँच पुत्र,धृष्टद्युम्न,शिखण्डी
दुर्योधन