Sunday, October 26, 2014

‘ताजमहल’ नहीं, हिंदुआेंके तेजोमहालयका ८५० वर्ष पुराना सच्चा इतिहास. TAJ MAHAL IS TEJO MAHAL

'ताजमहल' वास्तु मुसलमानोंकी नहीं, अपितु वह मूलतः हिंदुओंकी है । वहां इससे पूर्र्व भगवान शिवजीका मंदिर था, यह इतिहास सूर्यप्रकाशके जितना ही स्पष्ट है । मुसलमानोंने इस वास्तुको ताजमहल बनाया । ताजमहल इससे पूर्र्व शिवालय होनेका प्रमाण पुरातत्व विभागके अधिकारी, अन्य पुरातत्वतज्ञ, इतिहासके अभ्यासक तथा देशविदेशके तज्ञ बताते हैं । मुसलमान आक्रमणकारियोंकी दैनिकीमें (डायरी) भी उन्होंने कहा है कि ताजमहल हिंदुओंकी वास्तु है । तब भी मुसलमान इस वास्तुपर अपना अधिकार जताते हैं । शिवालयके विषयमें सरकारके पास सैकडों प्रमाण धूल खाते पडे हैं । सरकार इसपर कुछ नहीं करेगी । इसलिए अब अपनी हथियाई गई वास्तु वापस प्राप्त करने हेतु यथाशक्ति प्रयास करना ही हिंदुओंका धर्मकर्तव्य है । ऐसी वास्तुएं वापस प्राप्त करने हेतु एवं हिंदुओंकी वास्तुओंकी रक्षाके लिए ‘हिंदु राष्ट्र’ अनिवार्य है !
मुसलमान आक्रमणकारियोंने भारतके केवल गांव एवं नगरोंके ही नामोंमें परिवर्तन नहीं किया, अपितु वहांकी विशाल वास्तुओंको नियंत्रणमें लेकर एवं उसमें मनचाहा परिवर्तन कर निस्संकोच रूपसे  मुसलमानोंके नाम दिए । मूलतः मुसलमानोंको इतनी विशाल एवं सुंदर वास्तु बनानेका ज्ञान ही नहीं था । परंतु हिंदुओंने इस्लाम पंथकी स्थापनासे पूर्व ही अजिंटा तथा वेरूलके साथ अनेक विशाल मंदिरोंका निर्माणकार्य किया था । मुसलमान आक्रमणकारियोंको केवल भारतकी वास्तुकलाके सुंदर नमुने उद्ध्वस्त करना इतना ही ज्ञात था । गजनीद्वारा अनेक बार उद्ध्वस्त श्री सोमनाथ मंदिरसे लेकर तो आजकलमें अफगानिणस्तानमें उद्ध्वस्त बामयानकी विशाल बुद्धमूर्तितकका इतिहास मुसलमान आक्रमणकारियोंकी विध्वंसक मानसिकताके प्रमाण है अंग्रेज सरकारद्वारा भी निश्चित रूपसे विध्वंस  !
मुसलमान आक्रमणकर्ताओेंके पश्चात आए अंग्रेज सरकारको भारतीय संस्कृतिके विषयमें तनिक भी प्रेम न रहनेके कारण उन्होंने मुसलमान आक्रमणकर्ताओंका ही अनुकरण किया ।

आक्रमणकर्ताओंकी दैनिकीमें ताजमहलके विषयमें सत्य !

ॐ का शिल्प
आग्राकी ताजमहल वास्तुकी भी कहानी इसी प्रकारकी है । डॉ. राधेश्याम ब्रह्मचारीने ताजमहलका तथाकथित निर्माता शहाजहानके ही कार्यकालमें लिखे गए दस्तावेजोंका संदर्भ लेकर ताजमहलका इतिहास तपासकर देखा है । अकबरके समान शहाजहानने भी बादशहानामा ऐतिहासिक अभिलेखमें अपना चरित्र एवं कार्यकालका इतिहास लिखकर रखा था । अब्दुल हमीद लाहोरीने अरेबिक भाषामें बादशहानामा लिखा था, जो एशियाटिक सोसायटी ऑफ बेंगाल ग्रंथालयमें आज भीr उपलब्ध है । इस बादशहानामाके पृष्ठ क्रमांक ४०२ एवं ४०३ के भागमें ताजमहल वास्तुका इतिहास छिपा हुआ है । इस भागका स्वच्छंद भाषांतर आगे दिया है ।

'शुक्रवार दिनांक १५ माह जमदिउलवलको शहाजहानकी पत्नी मुमताजुल जामानिका पार्थिव बुरहानपुरसे आग्रामें (उस समयका अकबराबाद) लाया गया । यहांके राजा मानसिंहके महलके रूपमें पहचाने जानेवाले अट्टालिकामें गाडा गया । यह अट्टालिका राजा मानसिंहके नाती राजा जयसिंहके मालिकीकी थी । उन्होंने यह अट्टालिका शहाजहानको देना स्वीकार किया । इसके स्थानपर राजा जयसिंहको शरीफाबादकी जहागिरी दी गई । यहां गाडे गए महारानीका विश्वको दर्शन न होने हेतु इस भवनका रूपांतर दर्गामें किया गया ।

मुमताजुुलकी मृत्यु !

शहाजहानकी पत्नीका मूल नाम था अर्जुमंद बानू । वह १८ वर्षोंतक शहाजहानकी रानी थी । इस कालावधिमें उसे १४ अपत्य हुए । बरहानपुरमें अंतिम जजगीमें उसकी मृत्यु हो गई । उसका शव वहींपर अस्थायी रूपसे गाडा गया ।

ताजमहल शिवालय होनेका सरकारी प्रमाण !

ताजमहलसे ४ कि.मी. दूरीपर आग्रा नगरमें बटेश्वर नामक बस्ती थी । वर्ष १९०० में पुरातन सर्वेक्षण विभागके संचालक जनरल कनिंघमद्वारा किए गए उत्खननमें वहां संस्कृतमें ३४ श्लोकमें मुंज बटेश्वर आदेश नामक पोथा पाया गया, जो लक्ष्मणपुरीके संग्रहालयमें संरक्षित है । इसमें श्लोक क्रमांक २५, २६ एवं ३६ महत्त्वपूर्ण हैं । इनका स्वच्छंद भाषांतर आगे दिया है ।
'राजाने एक संगमरवरी मंदिरका निर्माणकार्य किया । यह भगवान विष्णुका है । राजाने दूसरा शिवका संगमरवरी मंदिरका निर्माण कार्य किया । ' यह अभिलेख विक्रम संवत १२१२ माह आश्विन शुद्ध पंचमी, शुक्रवारको लिखा गया । (वर्तमान समयमें विक्रम संवत २०७० चालू है । अर्थात शिवालयका निर्माणकार्य कर लगभग ८५० वर्षोंकी कालावधि बीत गई है ।) (यह कालावधि लेख लिखनेके समयका अर्थात वर्ष १९०० के संदर्भके अनुसार है – संपादक, दैनिक सनातन प्रभात )

शिवालयके प्रमाणको पुरातत्व शास्त्रज्ञोंका समर्थन !

१. प्रख्यात पुरातत्वशास्त्रज्ञ डी.जे. कालेने भी उपरोक्त दस्तावेजको समर्थन दिया है । उनके संशोधनके अनुसार राजा परमार्दीदेवने २ विशाल संगमरवरी मंदिरोंका निर्माणकार्य किया, जिसमें एक श्रीविष्णुका तो दूसरा भगवान शिवजीका था । कुछ समय पश्चात मुसलमान आक्रमणकर्ताओंने इन मंदिरोंका पावित्र्य भंग किया । इस घटनासे भयभीत होकर एक व्यक्तिने दस्तावेजको भूमिमें गाडकर रखा होगा । मंदिरोंकी पवित्रताका भंग होनेके कारण उनका धार्मिक उपयोग बंद हो गया । इसीलिए बादशहानामाके लेखक अब्दुल हमीद लाहोरीने मंदिरके स्थानपर महल ऐसा उल्लेख किया होगा ।
२. प्रसिद्ध इतिहासकार आर.सी. मुजुमदारके अनुसार चंद्रात्रेय (चंदेल) राजा परमार्दिदेवका दूसरा नाम था परमल एवं उसके राज्यका नाम था बुंदेलखंड । आज आग्रामें दो संगमरवरी प्रासाद हैं, जिसमें एक नूरजहांके पिताकी समाधि (श्रीविष्णु मंदिर) है एवं दूसरा (शिवमंदिर) ताजमहल है ।

ताजमहल हिंदुओंका शिवालय होनेके और भी स्पष्ट प्रमाण !

प्रसिद्ध इतिहासकार आर.सी. मुजुमदारके मतका समर्थन करनेवाले प्रमाण आगे दिए हैं ।
१. ताजमहलके प्रमुख गुंबजके कलशपर त्रिशूल है, जो शिवशस्त्रके रूपमें प्रचलित है ।
२. मुख्य गुंबजके उपरके छतपर एक संकल लटक रही है । वर्तमानमें इस संकलका कोई उपयोग नहीं होता; परंतु मुसलमानोंके आक्रमणसे पूर्व इस संकलको एक पात्र लगाया जाता था, जिसके माध्यमसे शिवलिंगपर अभिषेक होता था ।
३. अंदर ही २ मंजिलका ताजमहल है । वास्तव समाधि एवं रिक्त समाधि नीचेकी मंजिलपर है, जबकि २ रिक्त कबरें प्रथम मंजिलपर हैं । २ मंजिलवाले शिवालय उज्जैन एवं अन्य स्थानपर भी पाए जाते हैं ।
४. मुसलमानोंकी किसी भी वास्तुमें परिक्रमा मार्ग नहीं रहता; परंतु ताजमहलमें परिक्रमा मार्ग उपलब्ध है ।
५. फ्रांस देशीय प्रवासी तावेर्नियारने लिखकर रखा है कि इस मंदिरके परिसरमें बाजार भरता था । ऐसी प्रथा केवल हिंदु मंदिरोंमें ही पाई जाती है । मुसलमानोंके प्रार्थनास्थलोंमें ऐसे बाजार नहीं भरते ।

ताजमहल शिवालय होनेकी बात आधुनिक वैज्ञानिक प्रयोगद्वारा भी सिद्ध

वर्ष १९७३ में न्यूयार्कके प्रैट संस्थाके प्राध्यापक मर्विन मिल्सद्वारा ताजमहलके दक्षिणमें स्थित लकडीके दरवाजेका एक टुकडा अमेरिकामें ले जाया गया । उसे ब्रुकलिन महाविद्यालयके संचालक डॉ. विलियम्सको देकर उस टुकडेकी आयु कार्बन-१४ प्रयोग पद्धतिसे सिद्ध करनेको कहा गया । उस समय वह लकडा ६१० वर्ष (अल्प-अधिक ३९ वर्ष) आयुका निष्पन्न हुआ । इस प्रकारसे ताजमहल वास्तु शहाजहानसे पूर्व कितने वर्षोंसे अस्तित्वमें थी यह  सिद्ध होता है ।

शिवालय (अर्थात तेजोमहालय) ८४८ वर्ष पुराना !

यहांके मंदिरमें स्थित शिवलिंगको 'तेजोलिंग' एवं मंदिरको तेजोमहालय कहा जाता था । यह भगवान शिवका मंदिर अग्रेश्वर नामसे प्रसिद्ध था । इससे ही इस नगरको आग्रा नाम पडा । मुंज बटेश्वर आदेशके अनुसार यह मंदिर ८४८ वर्ष पुराना है । इसका ३५० वां स्मृतिदिन मनाना अत्यंत हास्यजनक है ।
(संदर्भ : साप्ताहिक ऑर्गनायजर, २८.११.२००४)